84 लाख योनि: Chaurasi Lakh Yoni, 84 लाख योनियों का विवरण

Discover a wide range of informative and useful articles on "84 लाख योनि: Chaurasi Lakh Yoni, 84 लाख योनियों का विवरण" at Ai Blogify.

Read more

84 लाख योनियां अलग-अलग पुराणों में अलग-अलग बताई बताई जाती है, लेकिन सभी एक ही मानी जाती है। अनेक आचार्यों द्वारा इन 84 लाख योनियों को 2 भागों में बांटा गया है। इसमें से पहला योनिज तथा दूसरा आयोनिज है मतलब 2 जीवों के संयोग से उत्पन्न प्राणी को योनिज कहा जाता है और जो अपने आप ही अमीबा की तरह विकसित होते हैं। उन्हें आयोनिज कहा जाता है। इसके अलावा मूल रूप से प्राणियों को 3 भागों में बांटा जाता है, जोकि नीचे दिए गए अनुसार हैं: –

Read more
  • जलचर:जल में रहने वाले सारे प्राणी।
  • थलचर :-पृथ्वी पर रहने वाले सभी प्राणी।
  • नभचर :- आकाश में विहार करने वाले सारे प्राणी।
Read more

ऊपर दिए गए 3 प्रमुख प्रकारों के अंतर्गत मुख्य प्रकार होते हैं मतलब 84 लाख योनियों में प्रारंभ में  नीचे दिए गए 4 वर्गों में बांटा जाता है।

Read more
  • जरायुज :- माता के गर्भ से जन्म लेने वाले मनुष्य, पशु को जरायुज कहा जाता है ।
  • अंडज :- अंडों से उत्पन्न होने वाले प्राणी  को अंडज कहा जाता है।
  • स्वदेज :- मल-मूत्र, पसीने आदि से उत्पन्न क्षुद्र जंतु को स्वेदज  कहा जाता है।
  • उदि्भज :- पृथ्वी से उत्पन्न प्राणी को उदि्भज कहा जाता है।
Read more

पदम् पुराण के एक श्लोकानुसार

जलज नव लक्षाणी, स्थावर लक्ष विम्शति, कृमयो रूद्र संख्यक:

Read more

पक्षिणाम दश लक्षणं, त्रिन्शल लक्षानी पशव:, चतुर लक्षाणी मानव:।। 

Read more

इसका अर्थ यह है जलचर 9 लाख, स्थावर मतलब पेड़-पौधे 20 लाख, सरीसृप, कृमि मतलब कीड़े-मकौड़े 11 लाख, पक्षी/नभचर 10 लाख, स्थलीय/थलचर 30 लाख और शेष 4 लाख मानवीय नस्ल के होते हैं। कुल 84 लाख माने जाते हैं।

Read more

84 लाख योनियों का विवरण नीचे दिए गए अनुसार है:-

  • पानी के जीव-जंतु:- 9 लाख
  • पेड़-पौधे:- 20 लाख
  • कीड़े-मकौड़े:- 11 लाख
  • पक्षी:- 10 लाख
  • पशु:- 30 लाख
  • देवता-दैत्य-दानव-मनुष्य आदि:-  4 लाख
  • कुल योनियां:- 84 लाख।
Read more

प्राचीन भारत में विज्ञान और शिल्प ग्रंथ में शरीर की रचना के आधार पर प्राणियों का वर्गीकरण किया जाता है, जो कि नीचे दिए गए अनुसार है:-

Read more
  • एक शफ (एक खुर वाले पशु):- खर (गधा), अश्व (घोड़ा), अश्वतर (खच्चर), गौर (एक प्रकार की भैंस), हिरण को शामिल किया जाता है।
  • द्विशफ (दो खुर वाले पशु):- गाय, बकरी, भैंस, कृष्ण मृग आदि शामिल है।
  • पंच अंगुल (पांच अंगुली) नखों (पंजों) वाले पशु:-सिंह, व्याघ्र, गज, भालू, श्वान (कुत्ता), श्रृंगाल आदि को शामिल किया जाता है।
Read more

मनुष्य जन्म कब प्राप्त होता है?

एक प्रचलित मान्यता के अनुसार एक आत्मा को कर्मगति अनुसार 30 लाख बार वृक्ष योनि में जन्म प्राप्त होता है। उसके बाद जलचर प्राणियों के रूप में 9 लाख बार जन्म  प्राप्त होता है। उसके बाद कृमि योनि में 10 लाख बार जन्म  प्राप्त होता है। और फिर 11 लाख बार पक्षी योनि में जन्म प्राप्त होता है

Read more

उसके बाद 20 लाख बार पशु योनि में जन्म प्राप्त होता है। अंत में कर्मानुसार गौ का शरीर प्राप्त करके आत्मा मनुष्य योनि प्रवेश करता है और फिर 4 लाख बार मानव योनि में जन्म लेने के बाद पितृ या देव योनि की प्राप्त होती है। यह सभी कर्म  अनुसार चलता जाता है। मनुष्य योनि में जन्म लेने के बाद नीच कर्म करने वाला फिर से नीचे की योनियों में सफर करने लग जाता है। मतलब उल्टेक्रम में गति करता है। जिसे ही दुर्गति कहा जाता है।

Read more

मनुष्य का पतन कैसे होता है

कठोपनिषद अध्याय 2 वल्ली 2 के 7वें मंत्र में यमराज जी कहते हैं कि अपने-अपने शुभ-अशुभ कर्मों के अनुसार शास्त्र, गुरु, संग, शिक्षा, व्यवसाय आदि के द्वारा सुने हुए भावों के अनुसार मरने के बाद कितने ही जीवात्मा दूसरा शरीर धारण करने के लिए वीर्य के साथ माता की योनि में प्रवेश कर जाते हैं। जिनके पाप- पुण्य समान होते हैं। वह मनुष्य का  जन्म प्राप्त करते हैं। जिनके पुण्य कम तथा पाप ज्यादा होते हैं, वह पशु-पक्षी का शरीर धारण कर के उत्पन्न होते हैं और कितने ही जिनके पाप बहुत ज्यादा होते हैं, वह स्थावर भाव को प्राप्त होते हैं  मतलब वृक्ष, लता, तृण आदि जड़ शरीर में उत्पन्न हो जाते हैं।

Read more

अंतिम इच्छाओं के कारण परिवर्तित जीन्स जिस जीव के जीन्स से मिल जाते है।उसी प्रकार ये आकर्षित होकर वही योनि धारण कर लेते हैं। 84 लाख योनियों में भटकने के बाद वह फिर मनुष्य शरीर में आ जाता है।

Read more

मानव शरीर त्यागने के बाद हमें दोबारा मनुष्य शरीर इसलिए मिलता ,क्योंकि 84 लाख योनियों में केवल मनुष्य ही एक ऐसी योनि है जिसमें सोच समझकर कर्म करने की इच्छा शक्ति होती है। केवल  मनुष्य शरीर ही समझ सकता है, कि स्वर्ग क्या होता है और नर्क क्या होता है। इसी प्रकार मानव ही सच और झूठ में समझ सकता है।

Read more

सिर्फ मनुष्य ही होता जो सिर्फ ये जान सकता है कि अच्छा और बुरा क्या है। वहीं मनुष्य ही धर्म और पाप में फर्क जान सकता है। वह केवल मनुष्य ही है जिसको परमात्मा को प्राप्त करने का रास्ता मालूम होता है और  इसी तरह सिर्फ मानव ही आत्मा का रहस्य जान सकता है। इस लिए मानव जब अपने जीवन का त्याग कर देता है, तो उस मानव को उसके कर्म के अनुसार ही अगली योनि में जन्म प्राप्त है। इस लिए उस योनि में मानव को सोचने और समझने की क्षमता नहीं होती है और इसी कारण मनुष्य ऐसी ही योनियों में फसता चला जाता है और जितना मनुष्य इन योनियों में जन्म लेते चले जाते है। उतना ही मनुष्य रूपी योनि उनसे दूर होती चली जाती हैं। इस लिए ऐसा कहा जाता है, कि मनुष्य को 84 लाख योनियों को पार करने के बाद ही मनुष्य रूपी योनि की प्राप्ति होती हैं।

Read more

मानव योनि को चौरासी लाख योनियों में सबसे उत्तम माना जाता है। इस लिए मनुष्य योनि प्राप्त करके इंसान को शुभ कर्म करने चाहिए। मनुष्य को अशुभ कर्मों से मुख मोड लेना चाहिए। चौरासी लाख योनियों को भोगने के बाद व्यक्ति को मानव शरीर प्राप्त होता है। इसलिए मनुष्य को इस योनि में अच्छे कर्म करने चाहिए, ताकि उसका जीवन सफल हो सके।

Read more

Related Topics:

सहारा इंडिया का पैसा कब मिलेगा – सहारा इंडिया पैसे का भुगतान कब करेगा

Read more

एकादशी व्रत के दौरान न करें ऐसा काम कि पछताना पड़े

Read more

LIC Saral Pension Yojana 2023: Know Policy Features, Application Process, Pension Amount.

Read more

Top 10 Direct Selling Companies in India 2023 (Best Network Marketing Companies)

Read more

मीटर नंबर से बिजली का बिल ऑनलाइन कैसे निकाले: Check Bijli Bill Online (Electricity Bill)

Read more

UP Anganwadi Recruitment 2023: Application kind, Eligibility Criteria, Exam Pattern and Syllabus

Read more

Did you like this story?

Please share by clicking this button!

Visit our site and see all other available articles!

Ai Blogify